30 धर्मी का प्रतिफल जीवन का वृक्ष होता है, और बुद्धिमान मनुष्य लोगों के मन को मोह लेता है। 

    30 The fruit of the righteous is a tree of life; and he that winneth souls is wise. 


तू मेरे छिपने का स्थान है; तू संकट से मेरी रक्षा करेगा; तू मुझे चारों ओर से छुटकारे के गीतों से घेर लेगा॥ 
 
     
           
     32:7


You are my safe and secret place; you will keep me from trouble; you will put songs of salvation on the lips of those who are round me. (Selah.)






                                  Download Jesus Alive Radio Mobile app





 Download


Hindi Bible Radio 
(Online Live Streming 24/7) 


 2 मेरी आज्ञाओं को मान, इस से तू जीवित रहेगा, और मेरी शिक्षा को अपनी आंख की पुतली जान; 


2    Keep my rules and you will have life; let my teaching be to you as the light of your eyes;



     
     
प्रभु में सदा आनन्दित रहो; मैं फिर कहता हूं, आनन्दित रहो। 
4 Always rejoice in the Lord; I say again, be happy.

100 प्रतिशत में से 95 प्रतिशत लोग  परमेश्वर को धोखा दे रहे हैं
जय मसीह की आज का वचन जो आज परमेश्वर ने हमसे 
बातें किया,मेरी प्रिय मसीह भाइयों बहनों आज हम आपको 
यह बताना चाहते हैं, 
परमेश्वर का वचन कहता है
तू मुझे छोड़ कर किसी को ईश्वर करके ना मानना तू मूर्ति पूजा ना करना
यीशु मसीह भी यही कहता है
धन्य है वे जो मुझे बिना देखे मुझ पर विश्वास करते हैं और मेरे पीछे चलते हैं
 तो मेरे मसीह भाइयों बहनों इसी बातों पर हम मनन करेंगे और हम आपको बताना चाहते हैं
100 प्रतिशत मसीह भाइयों बहनों में से
95 प्रतिशत मसीह भाइयों बहनों इस वचन का विपरीत काम कर रहे हैं
यही वजह से परमेश्वर काफी दुखी और नाराज भी हैं आइए जानते हैं कैसे
आज मेरे मसीह भाइयों बहनों आज 95 प्रतिशत लोग  यीशु मसीह की प्रतिमा और फोटो इमेज अपने घर में लगाते हैं
 जब की कोई यीशु मसीह का फोटो और इमेज है ही नहीं
 फिर भी  यीशु मसीह का फिल्म में जो कलाकार है  उन्हीं को यीशु की प्रतिमा बनाकर महिमा करने लगे हैं

लेकिन यह सब जीवित नहीं है
जीवित क्या है

जीवित परमेश्वर का वचन है

यूहन्ना 1:1
आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था।
यह गवाही देने आया, कि ज्योति की गवाही दे, ताकि सब उसके द्वारा विश्वास लाएं।

सब कुछ उसी के द्वारा उत्पन्न हुआ और जो कुछ उत्पन्न हुआ है, उस में से कोई भी वस्तु उसके बिना उत्पन्न न हुई।
मुझे लगता है मेरे मसीह भाइयों बहनों यह सब चीजों को पढ़कर आप समझ चुके होंगे कि हमें परमेश्वर के वचन के अनुसार चलना चाहिए

मुझे आपसे निवेदन है, अपना राय नीचे कमेंट बॉक्स में विचार जरूर दें
इस वचन को शेयर जरूर करें खुदा आपको बहुत सारी आशीष दे आमीन.

साधु सुन्दर सिंह, 3 सिंतबर 1889 को लुधियाना के रामपुरा में जन्मे थे। वे एक ईसाई भारतीय थे। उनका संभवतः हिमालय के निचले क्षेत्र में निधन 1929 में हुआ था।
साधु सुन्दर सिंह का जन्म एक सिख लुधियाना में पटियाला राज्य में हुआ था। साधु सुन्दर सिंह की मां उन्हे सदॅव साधुओके संगत में रेहने ले जाती थी, जो की वनो औ जंगलो में रेह्ते थे। वे सुन्दर सिंह को लुधियाना के इसाई स्कुल में अन्ग्रेजी सिखने भेजती थी।
साधु सुन्दर सिंह की मां का देहांत तब हुआ जब वे 14 वर्ष के थे, जिसे वह् हिंसा और निरशा में डुब गये। उन्होने अपना क्रोध इसाई मिशनरीयों पे निकाला, वे इसाई लोगो को सताने लगे और उनके अस्था का अपमान करने लगे। उनके धर्म को चुनोती के लिये उन्होने एक बाइबल खरीदा और उसका एक एक पन्ना अपने मित्र के समने जला दिया। तीन रातो के बाद, रैल पटरी पर आत्मदाह करने से पहले उन्होने स्नान कीया, जब वह स्नान कर रहे थे, साधुने जोर से कहा कौन है सच्चा परमेश्वर। अगर परमेश्वर ने अपना अस्तित्व उन्हे उस रात नहीं बताया होता तो वे अत्मदाह करते थे। अंत भोर खुलने से पेहले साधु सिंह को येशु मसिह का उन्के छिदे हुए हाथों के साथ् द्रुष्टांत हुआ।
भोर से पहले, साधुने अपने पिताजी को उठाया ताकी वह उन्हे बताये कि उन्हे येशु मसिह का द्रुष्टांत हुआ और उन्होने येशु मसिह कि अवाज सुनी। और उन्होने अपने पिताजी को बताया की इसके बाद वह मसिह के पिछे चलेंगे। वह केवल 15 वर्ष में ही वह पूरी तरह से मसीह के लिए प्रतिबद्ध हुए। उनकी कुमार अवस्था में ही शिष्यत्वता की परीक्षा हुई जब उनके पिताजी ने उन्हे अनुरोध और मांगकी की वह् धर्मातरण होने का बेतुका पण छोड़ दे, जब उन्होने ऐस करने से मना किया तो उनके पिताजी ने उनके लिये विदायी भोज रखा और उनकी नीन्दा करके अपने परीवार से निकाल दिया, कुछ घंटो के बाद सुन्दर को पता चला की उनके भोज में विष मिलाया गया था, पास के ही इसाई समुदाय कि सहय्यता से उनके प्राण बचे।
उनके 16 वे जन्म दिवस पर उन्होने सामुहिक रूप से शिमला के चर्च् में एक इसाई के रूप में बप्तिस्मा लिया।

Vist


Radio Online

onlineradios.in/

Call Us

Call Us

My Tuner

Our Phone App

Listen in your favourite player

                                                         

Jesus Alive Radio Clik Play

Featured Post

The fruit of the righteous is a tree of life.

Popular Posts

Vist Map